प्रोग्रामैटिक मोबाइल वीडियो


'ओपन मार्केट' पर एक वीडियो विज्ञापन / बैनर फ्लूटी की सेवा करना उतना आसान नहीं है जितना आप सोच सकते हैं। इस तथ्य को इस तथ्य से संयोजित करें कि, परंपरागत रूप से - प्रीमियम प्रकाशक पर्याप्त मात्रा में वीडियो (विज्ञापन) स्लॉट प्रदान नहीं करते हैं और हमारे हाथों में हमारी एक वास्तविक चुनौती है। सौभाग्य से हमने हजारों प्रीमियम प्रकाशकों को मैप किया है जिनमें वीडियो विज्ञापन-स्लॉट हैं। और जानने के लिए बाहर निकलें।

 

प्रोग्रामैटिक मोबाइल वीडियो


अनुसंधान से पता चलता है कि 2018 में, 70% से भी अधिक ऑनलाइन गतिविधियाँ वीडियो से सम्बंधित होंगी |

जब हम मोबाइल वीडियो विज्ञापन की बात करते हैं तो इसमें कई विविधताएँ देखने को मिलती हैं | कुछ प्रमुख प्रकार हैं - इन-स्ट्रीम (प्री-रोल, मिड-रोल, पोस्ट-रोल), आउट-स्ट्रीम और ओवरले | इनमें से प्रत्येक की अपनी अनूठी विशेषताएँ और उपयोग हैं |

इन-स्ट्रीम में एक वीडियो विज्ञापन होता है जिसे किसी विशिष्ट वीडियो सामग्री के पहले, दौरान या बाद चलाया जाता है (जैसा कि सामान्यतः यूट्यूब पर देखा जा सकता है) | आउट-स्ट्रीम वीडियो विज्ञापन इस तथ्य के कारण तुलनात्मक रूप से नयाऔर ताज़ा है कि इन्हें न केवल प्रकाशकों की वीडियो सूची पर, बल्कि 'सामान्य' सामग्री (उदाहरण- पाठ्य समाचार) के बीच भी प्रसारित किया जा सकता है | आउट-स्ट्रीम वीडियो का उपयोग कर विज्ञापन दाता प्रकाशकों के वेबसाइट या ऐप पर एक वीडियो प्लेयर की सहायता से अपने ब्रांड को प्रदर्शित कर सकते हैं | वीडियो विज्ञापन केवल तभी चलता है जब उपयोगकर्ता स्क्रीन पर आधे से अधिक वीडियो देख लेते हैं |इसे मूल विज्ञापन के रूप में समझें, बस यह एक वीडियो के साथ होता है|

ओवरले एक और विकल्प है जो विज्ञापन दाताओं को एक आवरण का उपयोग कर अतिरिक्त सामग्री जोड़ने में सक्षम बनाता है, जिसे वीडियो पर रखा जाता है| इन विज्ञापनों को मानक, स्थिर/एनिमेटेड बैनर के रूप में वर्णित किया जा सकता है, जो वीडियो सामग्री के साथ दिखाई देगा | इस प्रकार के आवरण परस्पर संवादात्मक उपयोगकर्ता अनुभव में योगदान देतेहैंऔर इसे उच्च प्रभाव का माना जा सकता है |

वीडियो विज्ञापन - उच्च प्रभाव, उच्च जुड़ाव

मोबाइल वीडियो विज्ञापनों का सामान्यतः उच्च प्रभाव होता है, जिसका अर्थ है कि जुड़ाव कीदर आम तौर पर बेहतर होती है |फिर भी - हालाँकि अनुमान अलग-अलग हैं– यह माना जाता है कि लगभग 75% दर्शक ‘स्किप द ऐड’ बटन पर क्लिक करते हैं (जब इन-स्ट्रीम प्रणाली में प्रस्तुत किया जाता है) | ध्यान देने वाली अन्य चीजें यह हैं कि किस तरीके से वीडियो सामग्री मोबाइल उपकरणों पर प्रदर्शित होते हैं | एक समाचार ऐप/साइट के आगंतुक संभावित रूप से लंबवत अभिविन्यास का उपयोग करेंगे जब कि यदि कोई खेल खेल रहे हैं तो क्षैतिज अभिविन्यास का उपयोग कर सकते हैं | इन विज्ञापनों के लिए, वीडियो की अधिकतम लंबाई 30 सेकंड होतीहै |यह कुछ तत्व हैं जिन पर वीडियो विज्ञापनों को लागू करते समय विचार करना चाहिए |

इसके अलावा, प्रोग्रामैटिक वीडियो विज्ञापन अभियानों में अधिकतम प्रभाव उत्पन्न करने के लिए अक्सर कई विज्ञापन एक्सचेंजों से जुड़ना आवश्यक होता है– जो वीडियो सूची पर केंद्रित हैं| जितना अधिक हो उतना बेहतर है |


 

प्रोग्रामैटिक मोबाइल वीडियो से सम्बंधित कोई प्रश्न है ? पूछें

Name *
Name

< वापस

Top